Wednesday, February 28, 2024
HomeComputer CourseBASIC COMPUTER COURSELesson – 9 Digital Financial Tools and Applications (डिजिटल वित्तीय टूल्स और...

Lesson – 9 Digital Financial Tools and Applications (डिजिटल वित्तीय टूल्स और एप्लीकेशन्स)

Introduction (प्रस्तावना)

डिजीटल उपकरणों जैसे-मोबाइल और लैपटाॅप की मदद से वित्तीय सेवाओं का उपयोग डिजीटल वित्तीय सेवा कहलाता है। इन सेवाओं के अंतर्गत भुगतान, बचत, क्रेडिट, प्रेषण और बीमा आते हैं। यह सेवाएँ साल के 365 दिन 24*7 उपलब्ध हैं। किसी भी डिजीटल वित्तीय सेवा के तीन घटक होते हैं। पहला डिजीटल ट्रांजैक्शन प्लेटफार्म जो एक ऐसा माध्यम है जिसमें ग्राहक सभी वित्तीय लेन-देन एक डिवाइस के द्वारा करते हैं। दूसरा, रिटेल एजेंट्स जो एक माध्यम तैयार करते हैं जिसमें सभी इलेक्ट्राॅनिक लेन-देन होते हैं और अन्त में, डिवाइसेस जिसमें आपका मोबइल फोन भी हो सकता है जो एक POS टर्मिनल से जुड़ा हो सकता है और इसके माध्यम से पेमेन्ट्स किये जा सकते हैं।

Objectives (उद्देश्य)

हम सीखेंगे-

  • इलेक्ट्राॅनिक भुगतान वाॅलेट सिस्टम की मदद से अपने आवासीय क्षेत्रों में उत्पादों और सेवाओं के लिए भुगतान करता। भारत सरकार ने स्मार्टफोन ऐप के माध्यम से कई इलेक्ट्राॅनिक वाॅलेट सिस्टम लाॅन्च किए हैं जैसे भारत इंटरफेस फाॅर मनी (BHIM) आधार पे, और बहुत सारे!
  • ई-वाॅलेट का उपयोग करना जो कि मोबाइल फोन जैसे इलेक्ट्राॅनिक साधनों की मदद से उपयोग किया जा सकता है। ये वाॅलेट फिजिकल वाॅलेट की जगह लेते हैं। एक उपयेागकर्ता ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यमों से भी कैशलेस भुगतान कर सकता है।
  • मोबाइल रिचार्ज, यूटिलिटी बिल भुगतान, किराना स्टोर, ई-काॅमर्स पोर्टल्स आदि के लिए ई-वाॅलेट का उपयोग करना।

Digital Financial Tools (डिजिटल वित्तीय टूल्स)

Understanding OTP and QR Code (ओटीपी और क्यू आर कोड को समझना)

OTP (वन टाइम पासवर्ड) फीचर, मानक उपयोगकर्ता के नाम (user name) और पासवर्ड के लिए लाॅकगन सुरक्षा की एक दूसरी परत जोड़ती है। OTP एक अनियमित ढंग से उत्पन्न है। यह सुविधा एक दो-कारक प्रमाणीकरण (two-factor authentication) योजन है जो उपयोगकर्ताओं को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान के लिए नेमत दंउम और पासर्वड क्रेडेंशियल्स के अलावा वन-टाइम पासर्वड का उपयोग करती है।

OTP सुविधा से लिए उपयोगकर्ताओं को पहले सही लाॅगिन क्रेडेंशियल सबमिट करना होता है लाॅगिन प्रक्रिया पूरी होने के बाद, सर्वर OTP पासर्वड क्रिएट करता है, जो उपयोगकर्ता को पूर्व-निर्धारित ईमेल पते या रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर भेजा जाता है। उपयोगकर्ता द्वारा इस वन-टाइम पासवर्ड को उसकी समाप्त होने की अवधि से पहले यूज़ कर लेना चाहिए । OTP के समाप्त होने की अधिकतम अवधि2 मिनट होती है।

QR Code (Quick Response Code):

क्यूआर कोड एक प्रकार का बारकोड होता है जिसमें डाॅट्स का एक मैट्रिक्स होता है। इसे एक क्यूआर स्कैनर या एक अंतर्निहित कैमरे के साथ स्मार्टफोन का उपयोग करके स्कैन किया जा सकता है। उदाहरण के लिए अपने फोन पर एक QR कोड को स्कैन करने से आपके फोन के वेब ब्राउजर में एक URL ओपन हो सकता है। एक स्मार्टफोन का उपयोग क्यूआर कोड स्कैनर के रूप में किया जाता है जो उपयोगी जानकारी के साथ कोड प्रदर्शित करता है।

QR कोड में अक्सर एक लोकेटर, पहचानकर्ता या ट्रैकर के लिए डेटा होता है जो किसी वेबसाइट या एप्लिकेशन को इंगित करता है। क्यूआर कोड विज्ञापन रणनीति का फोकस बन गया है क्योंकि यह एक यूआरएल को मैन्युअल रूप से दर्ज करके ब्रांड की वेबसाइट तक पहुँचने का एक तरीका प्रदान करता है।

क्यूआर कोड का उपयोग विभिन्न अनुप्रयोगों में निम्नानुसार किया जाता है-

  • क्यूआर कोड का उपयोग विभिन्न मोबाइल डिवाइस ऑपरेटिंग सिस्टम पर किया जा सकता है। iPhones (iOS 11से अधिक) और कुछ Android डिवाइस बाहरी ऐप डाउनलोड किए बिना ही QR कोड्स को स्कैन कर सकते हैं। कैमरा ऐप उस तरह के क्यूआर कोड को स्कैन और प्रदर्शित करने में सक्षम है। ये डिवाइस URL पुननिर्देशन का समर्थन करते हैं, जो QR कोड को डिवाइस पर मौजूदा अनुप्रयोगों में मेटाडेटा भेजने की अनुमति देता है।
  • QRकोड का उपयोग बैंक खाते की जानकारी या क्रेडिट कार्ड की जानकरी को संग्रहित करने के लिए किया जा सकता है, या उन्हें विशेष रूप से विशेष भुगतान प्रदाता अनुपयोगों के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया जा सकता है। दुनिया भर में QR कोड भुगतान के कई परीक्षण अनुप्रयोग हैं।
  • क्यूआर कोड का उपयोग वेबसाइटों में लाॅग इन करने के लिए किया जा सकता है।
  • एक एंड्राॅइड ऐप है, जो डेटा एन्क्रिप्शन स्टैंडर्ड एल्गोरिथम का उपयोग करके क्यूआर कोड के एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन का प्रबन्ध करता हैं
  • QR फत् कोड्स का उपयोग विभिन्न रिटेल आउटलेट्स द्वारा किया गया है जिनके पास लाॅयल्टी प्रोग्राम्स होते हैं।

UPI (Unified Payment Interface) (यूनिफाइड पेमेन्ट इंटरफेस)

यूनिफाइड पेमेन्ट इंटरफेस (यूपीआई) एक ऐसी प्रणाली है जो कई बैंक खातों को एक ही मोबाइल एप्लिकेशन में (किसी भी भाग लेने वाले बैंक की) शक्ति प्रदान करती है, कई बैंकिंग सुविधाओं, सीमलेस फंड राउटिंग और मर्चेट भुगतानों को एक ही मंच में विलय करती है। यह “पीयर टू पीयर” संग्रह अनुरोध को पूरा करता है जिसे आवश्यकता और सुविधा के अनुसार शेडूल और भूगतान किया जा सकता है। प्रत्येक बैंक एंड्राॅइड, विंडोज और आईओएस मोबाइल प्लेटाफाॅर्म के लिए अपना खुद का यूपीआई ऐप प्रदान करता है।

Understanding Unified Payment Interface (यूनिफाइड पेमेन्ट इंटरफेस को समझाना)

युनिफाइड पेमेंट इंटरफेस एक रियल-टाइम पेमेंट सिस्टम है। यह two-click Factor authentication process के माध्यम से आतंरिक तौर पर एक बैंक से दूसरे बैंक में हस्तांतरणको सक्षम करने के लिए डिजाइन किया गया है। यह इंटरफेस भारत की केंद्रीय बैंक “भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)” द्वारा नियांत्रित किया जाता है। यह एक मोबाइल प्लेटफाॅर्म के माध्यम से दो बैंक खातों के बीच पैसे ट्रांसफर करने का काम करता है।

इस प्रणाली को दो पक्षों के बीच धन हस्तांतरित करने का एक सुरक्षित तरीका कहा जाता है और भौतिक नकदी या बैंक के माध्यम से लेनदेन करने की आवश्यकता को समाप्त करता है।

How the Unified Payments Interface Works (यूनिफाइड पेमेंट इंटैरफेस कैसे काम करता है?)

  • Sending money on the UPI: UPI पर पैसे भेजने को “पुश” कहा जाता है। पैसे भेजने के लिए, उपयोगकर्ता इंटरफेस में लाॅग इन करता है और सेंड मनी / भुगतान विकल्प का चयन करता है। प्राप्तकर्ता  की वर्चुअल आईडी और वांछित राशि दर्ज करने के बाद वह उस खाते को चुनता है जिससे धनराशि डेबिट की जाएगी। उपयोगकर्ता फिर एक विशेष व्यक्तिगत पहचान संख्या (पिन) दर्ज करता है और एक कन्फर्मेशन प्राप्त करता है।
  • Receiving money: सिस्टम के माध्यम से पैसा प्राप्त करना “पुल” कहलाता है। एक बार जब उपयोगकर्ता सिस्टम में लाॅग इन हो जाता है,तो वह धन प्राप्त करने के विकल्प का चयन करता हैं फिर, उपयोगकर्ता को प्रेषक के लिए प्राप्त की जाने वाली राशि वह खाता जिसमें वह धन जमा करेगा, और वर्चुअल आईडी दर्ज करनी होगी। एक संदेश भुगतानकर्ता को भुगतान करने के अनुरोध के साथ जाता है। यदि वह भुगतान करने का निर्णय लेता है,तो वह लेनदेन को अधिकृत करने के लिए अपने UPI पिन को दर्ज़ करता है। एक बार स्थानांतरण पूरा हो जाने के बाद, प्रेषक और प्राप्कर्ता दोनों को अपने स्मार्टफोन पर टेस्ट संदेश द्वारा एक कन्फर्मेशन प्राप्त होता है।

AePS (Aadhaar Enabled Payment System) (आधार सक्षम भुगतान प्रणाली)

आधार उनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AePS) नेशनल पेमेंट्स काॅरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा विकसित एक प्रणाली है जो लोगों को केवल उनके आधार नंबर की पुष्टि करके और उनके फिंगर प्रिंट की मदद से या आईरिस स्कैन द्वारा सत्यापन करके माइक्रो-एटीएम पर वित्तीय लेनदेन करने की अनुमति देता है।

लोगों को इन लेनदेन को करने के लिए अपने बैंक खाते के विवरण का उल्लेख नहीं करना पड़ता है। इस भुगतान प्रणाली की सहायता से, लोग अपने आधार संख्या के माधयम से एक बैंक खाते से दुसरे बैंक में धन भेज सकते हैं। उदाहरण के लिए, सिस्टम एक केंद्रीकृत सर्वर पर काम करता है। लोग अपने खाते से उस बैंक के किसी भी खाते में पैसा भेज सकते हैं, जिसमें प्राप्तकर्ता का खता संचालित हो।

नीचे दिए गए अनुसार AePS के कई लाभ हैं-

  • बैंकिंग या गैर बैंकिंग लेनदेन, बैंकिंग संवाददाता के माध्यम से किया जा सकता है।
  • एक बैंक के बैंकिंग संवाददाता अन्य बैंकों के लेनदेन भी कर सकते हैं।
  • लेगों को AePS के माध्यम से लेनदेन करने के लिए अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड को प्रस्तुत करने की आवश्यकता नहीं है।
  • लेन-देन प्रमाणीकरण के लिए फिंगरप्रिंट की आवश्यकता होती है जो इसे सुरक्षित बनाता है।
  • दूर-दराज के गाँवों में लोगों को तुरन्त लेनदेन करने के लिए माइक्रो PoS मशीनों को दूर के स्थानों पर ले जाया जा सकता है।

Facilities can be availed through AePS (AePS के माध्य म से सुविधाओं का लाभ)

AePS के माध्यम से लोग कुल 6 सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। ये है-

  • Cash Withdrawal (नकद निकासी)
  • Cash Deposit (नकद जमा)
  • Balance Enquiry (बैलेंस पूछताछ)
  • Aadhaar to Aadhaar Fund Transfer (आधार से आधार फंड ट्रंासफर)
  • Mini Statement (मिनी स्टेटमेंट)
  • EKYC-Best Finger Detection/IRIS Detection (eKYC-बेस्ट फिंगर डिटेक्शन / आईआरआईएस डिटेक्शन)

How to Use AePS? (AePS का उपयोग कैसे करें ?)

AePS का उपयोग करने की प्रक्रिया काफी आसान है। आपको इन सरल चरणों का पालन करना होगा-

  • अपने क्षेत्र में बैंकिंग संवाददाता से सम्पर्क करें। (इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि अगर वह उस बैंक का कार्यकारी है जिसमें आपका खाता नहीं है, तब भी आप AePS के माध्यम से लेनदेन कर सकते हैं)।
  • PoS मशीन में अपना 12 अंको का आधार नंबर दर्ज करें।
  • लेनदेन का प्रकार जैसे-नकद जमा, निकासी, मिनी स्टेटमेंड, फंड ट्रांसफर, बैलेंस पूछताछ या ईकेवाईसी का चयन करें।
  • बैंक का नाम चुनें।
  • लेन-देन के लिए राशि दर्ज करें।
  • अपने बायोमेट्रिक का उपयोग करके लेन-देन को प्रमणित करें।
  • लेन-देन कुछ सेकंड्स में पूरा हो जाता है।
  • बैंकिंग संवाददाता द्वारा आपको एक रसीद दी जाएगी।

USSD (Unstructured Supplementary Service Data) यू एस एस डी (अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेन्ट्री सर्विस डाटा)

अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेंट्री सर्विस डेटा (यूएसएसडी) उपयोगकर्ताओं को *99# कोड के माध्यम से मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करने के लिए स्मार्टफोन या डेटा/इंटरनेट कनेक्शन के बिना अनुमति देता है USSD-आधारित मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल फंड ट्रांसफर, अकाउंट बैलेंस चेक करने, बैंक स्टेटमेंट जेनरेट करने, अन्य उपयोग के लिए किया जा सकता है।

*99# भुगतान सेवा का मुख्य उद्देश्य समाज के कमजोर और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के वित्तीय समावेशन की अनुमित देना और उन्हें बैंकिंग की मुख्य धारा में एकीकृत करना है। इस सेवा को सभी के लिए सुलभ बनाने के प्रयास में, यह सेवा 12 भाषाओं में उपलब्ध है, जिनमें अंग्रेजी और अन्य भारतीय भाषाओं जैसे कि हिंदी, तमिल, बंगाली और कन्नड़ शामिल है।

यूएसएसडी एक प्रौद्योगिकी मंच है जिसके माध्यम से एक बेसिक फोन पर जीएसएम नेटवर्क के माध्यम से सूचना प्रसरित की जा सकती है। यह सेवा सभी मोबाइल फोन पर एसएमएस सुविधा के साथ उपलब्ध होगी। यूएसएसडी मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करने के लिए, उपयोगकर्ताओं को बस *99# डायल करना होगा और इंटरैक्टिव मेनू का उपयोग करना होगा। भारत में कई बैंक हैं जो वर्तमान में *99# सेवा प्रदान कर रहे हैं।

यूएसएसडी द्वारा दो प्रकार की सेवाएँ अग्रानुसार प्रदान की जाती हैं-

USSD के लिए MMID, MPIN और पंजीकृत मोबाइल नंबर आवश्यक होते हैं। प्रत्येक भाषा के लिए अलग युएसएसडी कोड हैं। उदाहरण के लिए, अंग्रेजी (*99#), हिन्दी (*99*22#) आदि।

Cards (Credit/Debit कार्ड (क्रेडिट / डेबिट)

जैसा कि हमने पहले चर्चा की हैं, ई-काॅमर्स साइटें इलेक्ट्राॅनिक भुगतान का उपयोग करती हैं, जहाँ इलेक्ट्राॅनिक भुगतान ने कागजी-रहित मौद्रिक लेनदेन को दर्शाता है। इलेक्ट्राॅनिक भुगतान ने कागज कार्रवाई, लेनदेन की लगता और श्रम लागत को कम करके व्यापार प्रोसेसिंग में क्रांति ला दी हैं। उपयोगकर्ता के अनुकूल होने और मैन्युअल प्रोसेसिंग की तुलना में कम समय लेने वाली होने के कारण, यह व्यवसाय संगठन को अपने बाजार का विस्तार करने में मदद करता है।

नीचे सूचीबद्ध इलेक्ट्राॅनिक भुगतान के कुछ तरीके हैं-

  • Credit Card (क्रेडिट कार्ड)
  • Debit Card (डेबिट कार्ड)
  • Smart Card (स्मार्ट कार्ड)
  • Electronic Fund Transfer (EFT) इलेक्ट्राॅनिक फंड ट्रांसफर (EFT)

क्रेडिट कार्ड द्वारा भुगतान इलेक्ट्रानिक भुगतान के सबसे सामान्य तरीकों में से एक है। क्रेडिट कार्ड एक छोटा प्लास्टिक कार्ड होता है जिसमें किसी खाते के साथ एक अद्वितीय संखया (unique number) जुड़ी होती है। इसमें एक मैग्नेटिक स्ट्रिप या चिप भी लगा होता है जिसका उपयोग कार्ड रीडर के माध्यम से क्रेडिट कार्ड को पढ़ने के लिए किया जाता है। जब कोई ग्राहक क्रेडिट कार्ड के माध्यम से उत्पाद खरीदता है, तो क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता बैंक ग्राहक की ओर से भुगतान करता है और ग्राहक के पास एक निशिचत समय अवधि होती है जिसके बाद वह क्रेडिट कार्ड मासिक भुगतान चक्र है। क्रेडिट प्रणाली में निम्नलिखित शामिल हैं-

  • कार्ड धारक – ग्राहक
  • व्यापारी -उत्पाद का विक्रेता जो क्रेडिट कार्ड से भुगतान स्वीकार कर सकता है।
  • कार्ड जारीकर्ता बैंक-कार्ड धारक का बैंक
  • कार्ड ब्रांड-वीज़ा या मास्टरकार्ड(उदाहरण के लिए)

Credit Card Payment Process (क्रेडिट कार्ड भुगतान प्रक्रिया)

Step 1 बैंक ग्राहक को उसके अनुरोध पर क्रेडिट कार्ड जारी करता है और एक्टिवेट करता है।

Step 2 ग्राहक क्रेडिट कार्ड की जानकारी व्यापरी साइट पर या उस व्यापारी को प्रस्तुत करता है, जिससे वह उत्पाद खरीदना चाहता है।

Step 3 व्यापारी कार्ड ब्रांड कंपनी से अनुमोदन के द्वारा ग्राहक की पहचान को मान्य करता है।

Step 4 कार्ड ब्रांड कंपनी क्रेडिट कार्ड को प्रमाणित करती है और क्रेडिट द्वारा लेनदेन का भुगतान करती है। व्यापारी बिक्री पर्ची अपने पास रखता है।

Step 5 व्यापारी अधिग्रहण बैंक को बिक्री पर्ची सौंपता है और उससे भुगतान किया गया सेवा शुल्क प्राप्त करता है।

Step 6 अधिग्रहण बैंक ऋण राशि स्पष्ट करने के लिए कार्ड ब्रांड कंपनी का अनुरोध करता है और भुगतान हो जाता है।

Step 7 अब, कार्ड ब्रान्ड कम्पनी जारीकर्ता बैंक से राशि स्पष्ट करने के लिए पूछता है और राशि कार्ड ब्रांड कंपनी को हस्तांतरित हो जाता है।

Advantages and Disadvantages of Credit Cards (क्रेडिट कार्ड के लाभ और नुकसान)-

Debit Card (डेबिट कार्ड)-

डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड की तरह, एक छोटा प्लास्टिक कार्ड होता है जिसमें बैंक खाता संख्या के साथ एक अद्वितीय संख्या होती है। बैंक से डेबिट कार्ड प्राप्त करने से पहले बैंक खाता होना आवश्यक है। डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के बीच मुख्य अंतर यह है कि डेबिट कार्ड के माध्यम से भुगतान के मामले में, राशि तुरंत कार्ड के बैंक खाते से काट ली जाती है और लेनदेन पूरा होने के लिए बैंक खाते में पर्याप्त शेष राशि होनी चाहिए, क्रेडिट कार्ड लेनदेन के मामले में, ऐसी कोई बाध्यता नहीं है।

डेबिट कार्ड्स का इस्तेमाल करके ग्राहक कैश और चेक ले जाने से बच सकता है। यहाँ तक कि व्यापारी आसानी से डेबिट कार्ड स्वीकार करते हैं। डेबिट कार्ड भी बहुउद्देशीय होता है,जो एटीएम कार्ड को नकद निकालने और चेक गारंटी कार्ड के रूप कार्य करता है। व्यापारी ग्राहको को “कैशबैक”/“कैशआउट” सुविधाएँ भी दे सकते हैं, जहाँ ग्राहक अपनी खरीदारी के साथ-साथ नकदी भी निकाल सकते हैं।

Advantages and Disadvantages of Debit Cards (डेबिट कार्ड के लाभ और नुकसान)-

e-Wallet (ई-वाॅलेट)

ई-वाॅलेट एक प्रकार का इलेक्ट्राॅनिक कार्ड है, जिसका उपयोग कंप्यूटर या स्मार्टफोन के जरिए ऑनलाइन किए गए लेनदेन के लिए किया जाता है। इसकी उपयोगिता क्रेडिट या डेबिट कार्ड के समान है। भुगतान करने के लिए व्यक्ति के बैंक खाते के साथ एक ई-वाॅलेट को जोड़ने की आवश्यकता होती है।

ई-वाॅलेट विशेष रूप से उन ग्राहकों के लिए एक सुविधा है जिन्होंने माई एकाउंट प्रोफाइल पंजीकृत और स्थापित किया है। ई-वाॅलेट तेजी से भुगतान करने के लिए कई क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और बैंक खाते की जानकारी संग्रहित करने की क्षमता प्रदान करता है। आप बचत खातों के बना सकते हैं। आप इन प्रोफाइल को आवश्यकतानुसार एडिट और हटा सकते हैं। माई अकाउंट में लाॅग इन करने के बाद भुगतान करते समय, आप अपने क्रेडिट या बैंक खाते की जानकारी स्वचालित रूप से भरकर समय की बचत करेंगे।

Setting up an e-Wallet (इ-वाॅलेट एकाउन्ट स्थापित करना)

ई-वाॅलेट खाता स्थापित करने के लिए, उपयोगकर्ता को अपने डिवाइस पर साॅफ्टवेयर इंस्टाॅल करना होता है और आवश्यक प्रासंगिक जानकारी दर्ज करनी होती है। ऑनलाइन खरीदारी करने के बाद, ई-वाॅलेट स्वचालित रूप से भुगतान फाॅर्म पर उपयोगकर्ता की जानकारी भरता है। ई-वाॅलेट को सक्रिया करने के लिए, उपयोगकर्ता को अपना पासवर्ड दर्ज करना होता है। एक बार ऑनलाइन भुगातन हो जाने के बाद, उपभोक्ता को किसी अन्य वेबसाइट पर ऑर्डर फाॅर्म भरने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि डेटाबेस में जानकारी संग्रहित हो जाती है और स्वचालित रूप से अपडेट हो जाती है।

Types of e-Wallet (ई-वाॅलेट के प्रकार)

  • Paytm (पेटीएम):

पेटीएम भारत में सबसे लोकप्रिय ई-वाॅलेट है। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा इसे अनुमोदित और अधिकृत किया, यह भारत में मौजूद सबसे बहुमुखी मोबाइल वाॅलेट में से एक है। पेटीएम आज 4 बिलियन डाॅलर की कंपनी है और या अपना खुद का ईकाॅमर्स प्लेटाफाॅर्म भी पेश करती है यह न केवल ऑनलाइन भुगतान की अनुमति देता है, बल्कि ऑफलाइन भुगतान विकल्प भी लेकर आया है, जहाँ पैसे ट्रांसफर करने के लिए सक्रिय इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता नहीं है। यह केवल किया जा सकता है जो ऐप के भीतर उत्पन्न होता है। हम पेटीएम के बड़े समय के प्रशंसक है और दैनिक आधार पर इसका उपयोग करते हैं। पेटीएम इतना बढ़ गया है कि त्ठप् ने पेटीएम को भुगतान बैंक स्थापित करने का लाइसेंस दे दिया है। इसका मतलब यह है कि पेटीएम जल्द ही बचत और चालू बैंक खाता, डेबिट कार्ड जारी करने और इंटरनेट बैंकिंग की पेशकश कर सकता है।

  • Citurs Wallet (साइट्रस वाॅलेट):

यह एक लोकप्रिय भुगतान गेटवे है। मूवीज, डिनर और ड्रिंक बिल पेमेंट, मनी ट्रांसफर – सब कुछ केवल कुछ टैप्स के साथ, यह साइट्रस वाॅलेट भारतीय रिजर्व बैंक से लाइसेंस प्राप्त किया है। 21 मिलियन युजर बेस के नेटवर्क को समेटते हुए, साइट्रस वाॅलेट समृद्ध है और यहाँ तक कि दोस्तों के साथ बिलों को विभाजित करने की अनुमति देता है।

  • SBI Buddy (एस.बी.आई. बडी):

वो जिसने भारतीय स्टेट बैंक का नाम नहीं सुना है। हाँ, यह बैंक उन लोगों के लिए एक पूर्ण ई-वाॅलेट ऐप भी प्रदान करता है। जो डिजिटल वाॅलेट का उपयोग करना पसंद करते हैं। यह 13 भाषाओं में उपलब्ध है, यह वाॅलेट पैसे भेजने, पेसे माँगने, मोबाइल और डीटीएच सेवाओं को रिजार्ज करने, यूटिलिटी बिलों का भुगतान करने, सिनेमा टिकट बुक करने, होटल और उड़ानें आदि की अनुमति देता है। एसबीआई बडी के सबसे अच्छे प्रोडक्ट में से एक यह है कि आप वास्तव में अपने इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा आप अपने बाॅडी खाता को सुपरचार्ज कर सकते हैं। एक बार इंटरनेट बैंकिंग सक्षम हो जाने के बाद, आप वास्तव में अपने वाॅलेट में Rs 50,000 का बैलेंस रख सकते हैं; प्रतिदिन Rs 50,000 तक और महीने में Rs 1,00,000 तक के लेनदेन कर सकते हैं। हालांकि, इस तरह की उच्च सीमा के लिए आपको एसबीआई ग्राहक होने की आवश्यकता है।

  • MobiKwik (मोबिक्विक):

यह ई-वाॅलेट ई-वाॅलेट इकोसिस्टम का एक और प्रमुख खिलाड़ी है। यह भुगतान के विकल्पों की मेजबानी भी प्रदान करता है। और डोमिनोज पिज्जा, बिग बाजार, पिज्जा हट, Jabong, Shop Clues, Naaptol, MakeMyTrip, Pepper fry, BookMyShow और अधिक जैसे कई लोकप्रिय और प्रसिद्ध ब्रोडों के साथ भागीदारी की है। इस ई-वाॅलेट में भारतीय रिजर्व बैंक का प्राधिकरण और लाइसेंस भी है, जो इसे भारतीय बाजार में मौजूद सबसे भरोसेमंद मोबाइल वाॅलेट में से एक बनाता है।

  • ItzCash:

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अधिकृत, प्ज्रब्ंेी एक मोबाइल वाॅलेट है, जो कि ItzCash Card Ltd. द्वारा संचालित है, जो एस्सेल ग्रुप का हिस्सा है, जो 2.4 बिलियन डाॅलर के करोबार का समूह है, ItzCash बैंक खाते में सुरक्षित मनी ट्रांसफर विकलप के साथ एक समग्र भुगतान समाधान प्रदान करता है। यह एक डिजिटल लेनदेन की अनुमति देता है जैसे बैलंस ट्रांसफर, प्रीपेड मोबाइल रिचार्ज, मूवी टिकट खरीदे, रेलवे टिकट बुकिंग आदि।

  • Oxigen Wallet (आॅक्सीजन वाॅलेट):

20 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता आधार होने का दावा करके हुए, या मोबाइल वाॅलेट भारत में सबसे लोकप्रिय मोबाइल वाॅलेट्स में से एक है। MobiKwik और Paytm की तरह, ऑक्सीजन वाॅलेट भी RBI द्वारा अनुमोदित है और यह वास्तव में पहला गैर-बैंक वाॅलेट होने का दावा करता है जो तत्काल भुगतान करने की अनुमति देने के लिए नेशनल पेमेंट्स काॅर्पोरेशन ऑफ इंडिया या NCPI के साथ गठजोड़ करने में कामयाब रहा है। इसका मतलब है कि मनी ट्रांसफर वाॅलेट की सबसे मजबूत विशेषताओं में से एक है। इसके मनी ट्रांसफर फीचर के बारे में एक बात आपको पता होनी चाहिए कि यह तत्काल पैसे ट्रांसफर की अनुमति देने के लिए एनसीपीआई के साथ करार किया है। एकल लेनदेन में अधिकतम INR 5,000 तक सीमित है और एक महीने में, INR 10,000 से अधिक नहीं स्थानांतरित किया जा सकता है।

  • HDFC PayZapp (एचडीएफसी PayZapp):

अगर हम ऐप को ही देखें, तो हमार मतलब है कि ऐप को कितनी अच्छी तरह से बनाया गया है, यह बाजार के कुछ अन्य ऐप की तुलना में बहुत ठोस और कम बग है। हालाँकि, जब हमदी जाने वाली सेवाओं के लिए आते हैं, तो एचडीएफसी PayZapp उतना महान नहीं है। यह एक मोबाइल वाॅलेट होने के नाते वास्तव में बिल भुगतान, मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच रिचार्ज जैसे बुनियादी चीजों की अनुमति देता है। यह ई-काॅमर्स साइटों से खरीदारी करने की अनुमति देता है और यह वास्तव में आपको ई-काॅमर्स कंपनियों के उत्पादों को सीधे अपने स्वयं के इंटरफेस से ब्राउज करने की अनुमति देता है।

  • ICICI Pockets (आईसीआईसीआई):

आईसीआईसीआई बैंक द्वारा निर्मित और संचलित, पाॅकेट्स एक और अत्यधिक लोकप्रिय डिजिटल वाॅलेट है। यह डिजिटल वाॅलेट VISA द्वारा संचालित है। यह केवल एक ही बैंक यानी ICICI बैंक के उपयोकर्ताओं तक सीमित नहीं है। दरअसल, किसी भी बैंक का उपयोगकर्ता इस वाॅलेट का उपयोग कर सकता है और खाते में 20,000 शेष राशि ले सकता है। यह ICICI बैंक के साथ बचत खाते के लिए आवेदन करने की एक अनूठी विशेषता के साथ आता है। यह बचत बैंक खाता आपको संतुलन बनाए रखने, उसी पर ब्याज कमाने और यहाँ तक कि खाते का उपयोग करके नकदी निकालने की अनुमति देगा। इस बचत खाते को पाॅकेट सेविंग अकाउंट के रूप में जाना जाता है। एक पाॅकेट में 60000 व्यापारी होते हैं।

  • Advantages of e-Wallet (ई-वाॅलेट खाते के फायदे)

डिजिटल वाॅलेट का इस्तेमाल करने से मध्यस्थों की जरूरत कई तरह के रूपों में दूर हो जाती है। स्टोर में खरीदारी के लिए अब कैशियर की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि खरीदारी की प्रक्रिया मोबाइल डिवाइस के टैप या स्कैन की तरह सरल हो जाती है। गूगल पे जैसे एप्लिकेशन महँगे PoS (point of sale) सिस्टम को बदल सकते हैं जो व्यापार के लिए लेनदेन की लागत को कम करेगा।

Competitive Advantage (प्रतिसपर्धात्मक लाभ):

डिजिटल वाॅलेट एप्लीकेशन ग्राहकों के लिए एक अधिक सुविधाजनक लेन-देन प्रोसेसिंग विधि प्रदान करते हैं, जो इस तकनीक को बाजार में प्रतिस्पर्धा में बढ़त देने वाले व्यवसाय प्रदान करते हैं। यह भुगतान के उपयोगकर्ता अनुभव को फिर से परिभाषित करता है और प्रत्येक खरीद के लिए एक नए पहलू को शामिल करता है।

Modern (आधुनिक)

यह बड़े बाजारों में भुगतान के तरीकों के लिए एक पूरी तरह से नया पहलू दिखाता है, कई व्यापार के अवसरों और अधिक से अधिक संभावित राजस्व को पेश करता है।

Convenience (सुविधा)

उपयोगकर्ता अपने मोबाइल डिवाइस के एक साधारण टैप या स्कैन के साथ मात्र सेकंड में खरीद पाने में सक्षम हैं। वस्तुओं की खरीद का अनुभव जल्दी और आसान हो जाता है-जिससे संतुष्टि की अधिक भावना पैदा होती है। इसके अलावा, तेजी से लेन-देन के साथ, दुकानों के भीतर चेकआउट लाइनें बहुत कम हो जाती हैं।

  • Disadvantages of e-Wallet (ई-वाॅलेट खाते के नुकसान)

Investment (निवेश)

एक कार्यात्मक डिजिटल वाॅलेट एप्लीकेशन के निर्माण के लिए प्रारंभिक मौद्रिक निवेश काफी बड़ा है। इसके लिए साॅफ्टवेयर के प्रारंभिक विकास के साथ-साथ निरतंर रखरखाव, अपडेट और इसके साथ जुडे़ सुधारों की आवश्यकता होती है। साॅफ्टवेयर प्राप्त करने पर, व्यवसाय को अपने स्टोर में सम्बन्धित हार्डवेयर स्थापित करने की भी आवश्यकता होगी, जिससे लागत में और वृद्धि होगी।

Support Technology (सपोर्ट टेक्नोलाॅजी)

डिजिटल वाॅलेट के मामले में, वे केवल प्रत्येक एप्लिकेशन के लिए सम्बन्धित हार्डवेयर डिवाइस के साथ कार्य कर सकते हैं। एनएफसी टर्मिनल और विशेषज्ञ स्कैनर इस बनाए गए एकमात्र उपकरण हैं जो डिजिटल वाॅलेट भुगतान के प्रोसेसिंग का समर्थन करेंगे। इस प्रकार, यह बहुत सीमित है, क्योंकि तकनीक अभी भी नई है।

System Outages (सिस्टम आउटेज) –

डिजिटल वाॅलेट के लिए सूचना व्यापार सर्वर के क्लाउड पर संग्रहित की जाती है। इसलिए, सिस्टम में खराबी या बंद होने का जोखिम हमेशा मौजूद होता है। परिणामस्वरूप, व्यवसाय भुगतानों को संसाधित करनें में सक्षम नहीं होंगे या सर्वर में उच्च यातायात के कारण वे तेजी से धीमे हो जाएँगे।

Security (सुरक्षा) –

कंपनियों को यह सुुनिश्चित करना चाहिए कि उनके ग्राहकों की जानकारी एन्क्रिप्ट और अच्छी तरह से संरक्षित है। यह वह बाधा है जिसका कंपनियों को सामना करना चाहिए और इसके परिणामस्वरूप, सुरक्षा प्रणालियों को विकसित करना चाहिए जो संभावित सुरक्षा मुद्दों से बचने लिए यथासंभव सुरक्षित और पूर्ण सबूत हैं।

Point of Sale (पाॅइंट आॅफ सेल) / PoS (पी ओ एस)

पाॅइंट ऑफ सेल, जिसे पाॅइंट आॅफ परचेज भी कहा जाता है। यह वह स्थान है जहाँ लोग खरीदते और बेचते हैं। किसी भी प्रकार के वित्तीय लेनदेन में, वह स्टेज जब भुगतान किसी वस्तु या सेवा के एवज में किया जाता है, पाॅइंट ऑफ सेल (PoS) के रूप में जाना जाता हैं यह एक डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके किया जा सकता है।

What is PoS System? (PoS सिस्टम क्या है?)

PoS वह जगह है जहाँ लेनदेन होता है। PoS प्रणाली लेनदेन करने का उपकरण है। मूल रूप से, पीओएस सिस्टम एक पूर्ण लेनदेन प्रक्रिया बनाने के लिए हार्डवेयर और साॅफ्टवेयर का संयोजन है।

हाल ही में, PoS सिस्टम को a point of services के लिए भी संदर्भित किया गया है। यह सिर्फ a point of sale नहीं है, बल्कि a point of returning (ग्राहकों की वापसी) भी है। इस प्रकार, पीओएस सिस्टम में इन्वेंटरी मैनेजमेंट, सीआरएम, अकाउंटिंग और वेयरहाउसिंग जैसे अतिरिक्त कार्य भी शामिल हो सकते हैं।

संक्षेप में, आधुनिक पीओएस सिस्टम = साॅफ्टवेयर + हार्डवेयर + अतिरिक्त कार्य

PoS Hardware (PoS हार्डवेयर)

ये निम्नलिखित हैं-

  1. Barcode Scanner (बारकोड स्कैनर)
  2. Credit Card Reader (क्रेडिट कार्ड रीडर)
  3. Receipt Printer (रसीद प्रिंटर)
  4. Register Screen (रजिस्टर स्क्रीन)
  5. Cash Drawer (नकद दराज)

PoS Software (PoS साॅफ्टवेयर)

PoS Software आपको व्यवसाय का प्रबंधन करने और सभी लेनदेन को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह ग्राहकों, उत्पादों, सूची, बिक्री, वफादारी कार्यक्रमों और श्रम से आवश्यक डेटाबेस को स्वचालित रूप से, अपडेट करता है।

Types of PoS System (PoS प्रणाली के प्रकार)

  • Retail PoS (रिटेल PoS)

रीटेल PoS सिस्टम आमतौर पर रिटेल वातावरण के लिए प्रोग्राम किया जाता है। खुदरा PoS प्रणाली में निम्नलिखित विशेषताएँ हैं-

  • Hardware (हार्डवेयर) – रजिस्टर स्क्रीन, बारकोड स्कैनर, क्रेडिट कार्ड रीडर, रसीद प्रिंटर और कैश दराज (ऑफलाइन स्टोर के लिए)
  • Software (साॅफ्टवेयर) – क्लाउड-आधारित पीओएस (वेब-आधारित पीओएस और मोबइल पीओएस ऐप दोनों की सिफारिश की जाती है, यदि आपके स्टोर ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों हैं। यदि आपका स्टोर केवल ऑनलाइन उपलब्ध है, तो मोबाइल पीआएस ऐप सबसे अच्छाा विकल्प होना चाहिए।
  • Add-on features (ऐड-ऑन विशेषताएँ) – रंग-आकार-प्रकार का चयन, इन्वेंट्री टैªकींग, उपहार रजिस्ट्री, ग्राहक डेटाबेस, लेअवे और खरीद ऑर्डर, और कर्मचारी कमीशन। विशेष रूप से, इसकी बिक्री रिपोर्ट, ग्राहक रिपोर्ट, विक्रेता रिपोर्ट, और इन्वेंट्री रिपोर्ट जैसे संपूर्ण रिपोर्ट जारी करने के लिए एक सुविधा होनी चाहिए।
  • तृतीय-पक्ष एकीकरण (लेखांकन साॅफ्टवेयर, शिपिंग विक्रेता,आदि के साथ एकीकृत करने में सक्षम)
  • Restaurant & Bar PoS (रेस्टाॅरेन्ट और बार Pos)

बड़ी मात्रा और “क्रेजी” गति को संभालने के लिए रेस्तरां और बार में पीओएस सिस्टम पर्याप्त मजबूत होना चाहिए। इसकी निम्नलिखित विशेपताएँ हैं-

  • Hardware (हार्डवेयर) – रजिस्टर स्क्रीन, क्रेडिट कार्ड रीडर, रसीद प्रिंटर और कैश दराज।
  • Software (साॅफ्टवेयर) – आधार पर, सिस्टम को ऑफलाइन काम करने में सक्षम होना चाहिए, बुनियादी ग्राहक डेटाबेस, बिक्री और कर डेटा को टैªक करना चाहिए।
  • Workflow Integration (वर्कफ्लो इन्टीग्रेशन) – ऑर्डर प्रोसेसिंग और किचन सेटआप के बीच सम्बधन। रेस्तारां कर्मचारी आसानी से विभिन्न प्रीप स्टेशनों के बीच रसोई के ऑर्डर को विभाजित कर सकते हैं।
  • High Speed (हाईस्पीड) – व्यस्त बार/ रेस्तरां से निपटने में सक्षम। जितनी तेजी से यह है, सबसे ज्यादा खुश ग्राहक हैं।
  • Flexibility (फ्लैक्सीबीलिटी) – आप आसानी से और जल्दी से ग्राहकों के आदेशों को संशोधित कर सकतें हैं और सीट नंबर की जाँच कर सकते हंै।
  • Simple to use (यूज़ में सरल) – सरल बटन और तेज पहुँच। यह आपके कर्मचारियों को तेजी से सेवा देने में मदद करेगा।
  • Spa and Resort PoS (स्पा और रिसाॅर्ट PoS)

नाखून सैलून, आल सैलून और स्पा सभी को व्यवसाय की प्रकृति के कारण पीओएस विकल्पों के एक विशेष सेट की आवश्यकता होती है।

Internet banking (इन्टरनेट बैंकिंग)

  • खाता विवरण, विवरण इतिहास, हाल ही में किए गए लेन-देन।
  • क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान।
  • भुगतान किए गए चैकों का विवरण और चैक बुक को ऑर्डर करना।
  • आयकर का भुगतान और करों का ऑनलाइन प्रेषण।
  • म्यूचुअल फंड्स में निवेश और बीमा कराना।
  • बिलों का भुगतान।
  • ग्राहकों के खातों में धन का स्थानांतरण।
  • माँगा पत्र जारी करवाना।

NEFT/RTGS (एन ई एफ टी/आर टी एस)

  • NEFT:

एन ई एफ टी एक इलेक्ट्रीनिक धन स्थानांतरण का माध्यम है जिसका रख-रखाव आर बी आई द्वारा किया जाता है। इसका प्रयोग करके व्यक्ति देश के किसी भी शहर की किसी भी बैंक शाखा से देश के किसी भी दुसरे शहर की बैंक शाखा में धन स्थानांतरित कर सकता है। यह प्रति घंटा के बैचों में संचालित होता है। सुबह 8 बजे से शाम 5:30 बजे तक दिया गया स्थानांतरण निवेदन उसी दिन क्रियान्वित हो जाता है। इसकी अधिकतम सीमा Rs 10 लाख है और कोई भी न्यूनतम सीमा नहीं है।

  • RTGS:

आर टी जी एस भी एन ई एफ टी के समान है किन्तु यह बड़े मूल्य के लेनदेन में प्रयोग होता है। इसकी न्यूनतम सीमा Rs 2 लाख और अधिकतम Rs 10 लाख है।

Process of NEFT and RTGS (एन ई टी और आर टी जी एस की प्रक्रिया)

  • Step 1: ग्राहक एक आवेदन पत्र भरता है जिसमें लाभार्थी का विवरण (नाम, बैंक, बैंक शाखा, आई एफ एस सी कोड, खाता संख्या और राशि) भरा जाता है।
  • Step 2: इस फार्म को भरने के बाद ग्राहक अपनें बैंक को अपने खाते में से बताई गई रकम प्राप्कर्ता केे खाते में स्थानांतरित करने के लिए अधिकृत करता है।
  • Step 3: ग्राहक की बैंक शाखा पूलिंग केन्द्र के लिए एक संदेश तैयार करती है। यह केन्द्र एन ई एफ टी सेवा केन्द्र कहलाता है।
  • Step 4: एन ई टी सेवा केन्द्र संदेश को एन ई एफ टी समशोधन केन्द्र (जोकि आर बी आई द्वारा संचालित है) को भेजता है ताकि उसे अगले बैच में सम्मिलित किया जा सके।
  • Step 5: समशोधन केन्द्र संदेशों को गंतव्य बैंक के आधार पर अलग करता है। और मूल बैंक से धन प्राप्त करने और गंतव्य बैंक को धन देने के लिए प्रविष्टियाँ तैयार करता है।
  • Step 6: एन ई एफ टी केन्द्र द्वारा बैंक के आधार पर धन स्थानांतरण से देशों को गंतव्य बैंकों को भेजा जाता है।
  • Step 7: समाशोधन बैंक द्वारा प्राप्त इनवर्ड फंड ट्रांसफर संदेश को प्राप्त कर जमा की गई राशि को प्राप्तकर्ता के खाते में जमा कर दिया जाता है।

No Credit Eligibility (कोई क्रेडिट पात्रता नहीं)

IMPS का अर्थ भारतीय बैंकिंग प्रणली शब्दावली में तत्काल भुगतान सेवा है। यह देश के शीर्ष बैंक, भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) द्वारा उपलब्ध कराया गया धन हस्तांतरण तंत्र है। 4 प्रमुख बैंकों के साथ पायलट प्रोजेक्ट की मदद से छच्ब्प् NPCI 2010 में शुरू की गई, IMPS अब 150+ बैंकों की हो गई है।

NEFT और RTGS ट्रांसफर तंत्र केवल उनके व्यावसायिक घंटों के दौरान उपलब्ध होते हैं। हालांकि, IMPS हेमश 24*7 उपलब्ध रहता है।

Fund transfer by IMPS (IMPS द्वारा फंड ट्रांसफर करना)

IMPS आपके फंड को नेट-बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग प्लेटफाॅर्म के माध्यम से स्थानांतरित कर सकता है।

  • नेट-बैंकिंग के माध्यम से IMPS ट्रांसफर की प्रक्रिया इस प्रकार है-
    • अपने बैंक के नेट-बैंकिंग पोर्टल में प्रवेश करें।
    • लाभर्थी के खाता संख्या, खाता प्रकार, IMPS कोड, नाम और संपर्क विवरण का इनपुट करके एक IMPS लाभार्थी जोडें।
    • आपके बैंक द्वारा यह पुष्टि करने के बाद कि लाभार्थी को शामिल किया गया है, फंड ट्रांसफर पर जाएँ और फिर उस लाभार्थी का चयन करें, जिसे आप फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं।
    • एक बार जब आप ऐसा करते हैं कि लाभार्थी का खाता विवरण दिखाई देगा, तो राशि और रिमाक्र्स (वैकल्पिक) दर्ज करें।
    • भुगतान सत्यापित करें और आपका फंड IMPS के माध्यम से तुरन्त स्थानांतरित हो जाएगा।
  • मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से IMPS ट्रांसफर की प्रक्रिया इस प्रकार है-
    • अपनें बैंक के मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन में लाॅग इन करें।
    • लाभार्थी जोडे़ यदि पहले से नहीं जोड़ा गया है।
    • लाभार्थी के जुड़ जाने के बाद, Send Money / Fund Transfer टैब पर क्लिक करें और IMPS विकल्प पर जाएँ ।
    • अब लाभार्थी का मोबाइल नम्बर, राशि और लाभार्थी MMID दर्ज करें।
    • तब एप्लीकेशन आपके मोबाइल पिन (MPIN) द्वारा ट्रांसफर को प्रमाणित करने के लिए पूूछेगाा, एक बार जब आप अपना मोबाइल पिन सत्यापित कर लेते हैं, तो आपका पैसा ट्रांसफर हो जाएगा। और फिर बैंक आपको ट्रांजेक्शन नम्बर का उल्लेख करते हुए एक कन्फर्मेशन मैसेज भेजेगा।

Online Bill Payment (आॅनलाइन बिल भुगतान)

आप भारत के किसी भी बैंक के नेट बैंकिंग, एटीएम या मोबाइल सेवा के माध्यम से इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं।

उदाहरण – माल लीजिए कि कोई उपयोगकर्ता ऑनलाइन सुविधा के माध्यम से एसबीआई के अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का भूगतान करना चाहता है। फिर, उसे SBI की ऑनलाइन बिल भुगतान प्रक्रिया के कुछ चरणों का पालन करना होंगा।

Step 1: उपर्युक्त बैंकों के नेट बैंकिंग पेज पर लाॅग इन करें जहाँ आपका बैंक खाता है।

Step 2: एक बिलर के रूप में ’ SBI कार्ड’ को जोड़ें।

Step 3: अपने कार्ड नम्बर और भुगतान राशि के बारे में विवरण भरें और भुगतान करें।

  1. OTP का पूर्ण रूप बताइए ?
    • One  time password
    • one time passcode
    • one time parameter
    • none
  2. Q R कोड का पूर्ण रूप बताइये ?
    • quick response code
    • quick resposible coding
    • quick response codind
    • none
  3. UPI का पूर्ण रूप बताइये ?
    • unified project agency
    • unified project internatinol corporation
    • unified payment interface
    • none
  4. AEPS किस संस्था द्वारा विकसित किया गया ?
    • NCPC
    • NIPC
    • NCPI
    • NPCI
  5. NPCI का पूर्ण रूप बताइये ?
    • national protocol corporation
    • national payment corporation of india 
  6.   USSD को हम कितनी भाषाओ में प्रयोग कर सकते है ?
    • 12
    • 15
    • 18
    • 9
  7. AEPS का पूर्ण रूप बताइये ?
    • adhar entry payment system
    • adhar enable processing system
    • adhar enabled payment system
    •        
  8. AEPS के माध्यम से हम कितनी सेवाओ का लाभ उठा सकते है ?
    • 4
    • 6
    • 8
    • 10
  9. EFT का पूर्ण रूप बताइये?
    • electric fund transfer
    • electronic fund  transfer
    • electronic transfer
    • none
  10. इनमे से 4 मिलियन डोलर की कंपनी कोन सी है ?
    • पेटियम patium
    •  SBI BUDDY
    • phonepay
    • इनमे से कोई नहीं
  11. SBI buddy wallet में हम अधिकतम कितना बैलेंस रख सकते है |
    • 1,00000
    • 50,000
    • 80,000
    • 10,000
  12. NEFT का पूर्ण रूप क्या है ?
    • NATINOL enable fund transfer
    • national electronic fund transfer
    • national enable project
    • none
  13. RIGS का पूर्ण क्या है ?
    • real time gross salary
    • real time settlement
    • none
    • real time gross settlement
  14. kyc का पूर्ण बताइये ?
    • know your customer
    • know your cash
    • knowlege of your customer
    • none of these
  15. MMID का पूर्ण रूप क्या है ?
    • mobile money idntity
    • mobile money identifer
    • both
    • none
  16. IMEI का पूर्ण रोप क्या है ?
    • internet mobile equipment  identity
    • internation mobile electronic identity
    • internation mobile equipment identity
    • none
  17. बैंकिंग शेत्र में अधिक संख्या में चेको के तेज़ निस्तारण में सहायता करता है ?
    • CMR
    • OCR
    • BAR CODE reader
    • MICR
  18.   मोबाइल बैंकिंग में संभव है ?
    • खाते की बचत राशि देखना
    • बिजली बिल भुगतान
    • फण्ड ट्रांसफर
    • उपर्युक्त सभी
  19. bank दावा —– का ब्याज दिया जाता है ?
    • loans
    • deposits
    • transactions
    • withdraw
  20. इन्टरनेट बैंकिंग का कार्य नहीं है ?
    • खाते से नकद निकालना
    • खाते का विवरण देखना
    • श्रण के लिए आवेदन करना
    • हाल ही के कार्य का विवरण देखना

hsguruji
hsgurujihttp://hsguruji.com
I am a life coach,motivational trainer and a computer master.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments